मास्टर मूवमेंट 2018 शुरू करने वाले का संक्षिप्त परिचय

          इस मूवमेंट की शुरुआत कर्नल (डॉ) धीरेन्द्र कुमार द्वारा की गई जिनका जन्म बिहार के एक गरीब परिवार में हुआ l सन 1982 में सिपाही की भर्ती के लिए वे अयोग्य घोषित कर दिए गए l बाद में डाक्टर बन कर आर्मी ज्वाइन किया, कारगिल वार (ऑप विजय) और ब्रिग बिपिन रावत (बाद में सेनाध्यक्ष) के नेतृत्व में यू एन मिशन में भाग लिया l कमांडिंग ऑफिसर का तीन अति सफल टेन्योर पूरा किया (एक ले कर्नल रैंक में और दो कर्नल रैंक में) l सर्विस के दौरान उन्हें कारगिल वार तथा यू एन मिशन सहित 4 बार प्रशंसा पत्र मिले l बाल-बच्चे नहीं रहने को ईश्वर का वरदान मानकर 08 अप्रैल 2018 को नियत समय से 6 साल पहले सर्विस छोड़कर 09 अप्रैल 2018 को मास्टर मूवमेंट 2018 शुरू किया l

Brief Introduction of the Initiator of Master Movement 2018

          This movement was started by Colonel (Dr) Dhirendra Kumar who was born in a poor family in Bihar. He was rejected in the recruitment of Sepoy in 1982. Subsequently he joined army after becoming a doctor. He got opportunities to serve in Kargil War (Op Vijay) and also in United Nations Mission Congo under leadership of Brig Bipin Rawat (Ex Chief of Army Staff). He had three highly successful tenures as Commanding Officer (one as Lt Colonel and two as Colonel), got four Citations during service including during Kargil War and United Nations Mission.
          He took childlessness as blessings of the Almighty. For getting solved all major problems of India with the help and blessings of the society, he left his job six years before the due date on 08 Apr 2018 and started the selfless Master Movement 2018 on 09 Apr 2018.